बिहार

एके 47 रखने के मामले में 6 दिन से फरार विधायक अनंत सिंह का दिल्ली के कोर्ट में सरेंडर

* पुलिस ने पिछले हफ्ते अनंत के आवास पर छापा मारकर एके 47, दो ग्रेनेड और गोलियां बरामद की थीं
* पुलिस 17 अगस्त को अनंत सिंह की गिरफ्तारी के लिए पटना में उनके घर पहुंची, लेकिन विधायक फरार हो गए

पटना/संवाददाता

बिहार के मोकामा से विधायक अनंत सिंह ने शुक्रवार को दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर कर दिया। पिछले दिनों पुलिस की छापेमारी के दौरान उनके घर से एक एके 47, दो ग्रेनेड और गोलियां मिली थीं। इसके बाद 17 अगस्त को पुलिस अनंत सिंह को गिरफ्तार करने उनके घर गई, लेकिन वे पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए थे।
अनंत सिंह 6 दिन फरार रहे। इस दौरान उन्होंने तीन वीडियो जारी किए। इनमें कहा था कि मैं कोर्ट में सरेंडर करूंगा। गुरुवार उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने मेरे घर पर हथियार रखवाए थे। बिहार पुलिस ने अनंत और उनके केयरटेकर सुनील राम के खिलाफ यूएपी एक्ट, आर्म्स एक्ट और आईपीसी की अलग-अलग धाराओं के केस दर्ज किया था।

अनंत सिंह यूएपी एक्ट के पहले आरोपी
केंद्र सरकार ने गैर-कानूनी गतिविधियों को रोकने वाले यूएपी एक्ट में संशोधन किया है। पिछले महीने इसे संसद से मंजूरी मिल चुकी है। अनंत सिंह संशोधन के बाद इस कानून के तहत पहले आरोपी बने हैं। उनके खिलाफ यूएपीए की धारा-13, विस्फोटक अधिनियम और आईपीसी की धारा 414, 120 बी के तहत बाढ़ थाने में केस दर्ज किया गया।

हत्या के मामले में 2015 में हुए थे गिरफ्तार
अनंत सिंह जून 2015 को बाढ़ के पुट्टुस यादव मर्डर केस में गिरफ्तार हुए थे। तब पुलिस को उनके घर से खून से सना कपड़ा और प्रतिबंधित हथियार मिले थे। पुलिस ने इंसास राइफल की 6 खाली मैगजीन और बुलेटप्रूफ जैकेट भी बरामद की थी।

नीतीश के करीबी थे अनंत सिंह
निर्दलीय विधायक अनंत सिंह की गिनती बिहार के बाहुबली नेताओं में होती है। अनंत कभी नीतीश के करीबी थे। वह 2005 में पहली बार जदयू के टिकट से चुनाव जीते। 2010 में भी वह जदयू के विधायक बने। 2015 के चुनाव से पहले हत्या के एक मामले में उन्हें जेल जाना पड़ा। इस दौरान जदयू ने अनंत सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया। जेल से ही अनंत सिंह ने चुनाव लड़ा और निर्दलीय विधायक बने।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *