खबरें देश विदेश

भारत की पाक को दो टूक, जुल्म करने वाले न दें सीख

हाइलाइट्स
* मालदीव में हो रहे स्पीकर्स समिट में पाकिस्तान का ड्रामा, कश्मीर मुद्दे को उठाने की कोशिश की
* भारत के आंतरिक मामले को उठाए जाने की कोशिश पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश का जबरदस्त पलटवार
* कश्मीर में ‘ज्यादतियों’ के पाकिस्तान के आरोप पर हरिवंश ने कहा- अपनों का नरसंहार करने वाले हमें न सिखाएं
* राज्यसभा के उपसभापति ने पाकिस्तान को सीमापार आतंकवाद रोकने और आतंक को समर्थन बंद करने की दी नसीहत

माले/एजेंसी

पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के भारत के आंतरिक मामले के अंतरराष्ट्रीयकरण की हर मुमकिन कोशिश कर रहा है और हर बार उसे मुंह की खानी पड़ रही है। इस मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग पड़ने और अनसुना किए जाने से उसकी बौखलाहट और हताशा भी बढ़ती ही जा रही है। हताशा का आलम यह है कि संसद के स्पीकरों के अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम तक में वह कश्मीर मसला उठाने की नाकाम कोशिश कर रहा है। मालदीव में हो रहे चौथे साउथ एशियन स्पीकर्स समिट में पाकिस्तान के प्रतिनिधियों ने कश्मीर का मसला उठा दिया, जिस पर भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने आपत्ति उठाते हुए तीखा पलटवार किया। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने पाकिस्तान को आईना दिखाते हुए कहा कि जिस मुल्क ने बड़े पैमाने पर अपने ही लोगों का नरसंहार किया हो, उसे मानवाधिकार पर बोलने का नैतिक अधिकार ही नहीं है। उन्होंने पाकिस्तान को सीमापार आतंकवाद बंद करने की भी नसीहत दी।

सस्टेनेबल डिवेलपमेंट पर था समिट, पाक ने छेड़ा कश्मीर राग
पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का ड्रामा जारी रहा तो कार्यक्रम का संचालन कर रहे मालदीव की संसद के स्पीकर मोहम्मद नशीद को दो टूक कहना पड़ा कि इस फोरम में किसी देश के आंतरिक मामले को नहीं उठाया जा सकता है। दरअसल, मालदीव की संसद रविवार को सस्टेनेबल डिवेलपमेंट गोल पर चौथे साउथ एशियन स्पीकर्स समिट की मेजबानी कर रही थी। इसमें लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और राज्यसभा उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, जबकि पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व नैशनल असेंबली के डेप्युटी स्पीकर कासिम सुरी और पाकिस्तानी सेनेटर कुर्रतुल एन मारी कर रहीं थी।

भारत के आंतरिक मामले को उठाने से पाक को रोका
अचानक पाकिस्तानी प्रतिनिधि कासिम सुरी ने कश्मीर का राग छेड़ दिया। उन्होंने कहा, ‘हम कश्मीर की जो स्थिति है, उसे नजरअंदाज नहीं कर सकते। वहां लोगों पर अत्याचार हो रहा है।’ इसका भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने जोरदार पलटवार किया। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने कहा, ‘भारत के आंतरिक मामले को इस फोरम में उठाए जाने पर हम पुरजोर आपत्ति जाहिर करते हैं। इसके अलावा समिट के विषय से इतर मुद्दों को उठाकर इस फोरम के राजनीतीकरण को भी हम खारिज करते हैं।’

भारत ने दी पाक को सीमापार आतंक रोकने की नसीहत
आतंकवाद पर पाकिस्तान को घेरते हुए हरिवंश ने कहा, ‘पाकिस्तान को सीमापार आतंकवाद और इसे अपने तरफ से दिए जा रहे हर तरह के समर्थन को खत्म करना चाहिए। क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए यह करना जरूरी है। संपूर्ण मानवता के लिए आज आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा है।’

हरिवंश ने उधेड़ दी पाकिस्तान की बखिया
हरिवंश की बातों से पाकिस्तानी सेनेटर एन मारी तिलमिला उठीं और उन्होंने भी कश्मीर का राग गाना शुरू कर दिया। मारी ने कश्मीरियों पर अत्याचार और मानवाधिकार उल्लंघन का आरोप लगाने लगीं। इस पर राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने पाकिस्तान को आईना दिखाते हुए कहा कि एक ऐसा देश जिसने अपने ही लोगों का नरसंहार किया हो, उन्हें बोलने का नैतिक अधिकार ही नहीं है। भारतीय प्रतिनिधि ने जब पाकिस्तान की बखिया उघेड़नी शुरू कर दी तो बौखलाई मारी चिल्ला-चिल्लाकर उनके भाषण में बाधा पहुंचाने की कोशिश करने लगीं।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *