अन्य ख़बरें कानून देश

होर्डिंग से मौत, HC ने पूछा- कितना खून चाहिए?

हाइलाइट्स
* होर्डिंग गिरने के कारण महिला की मौत होने पर हाई कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार को फटकारा
* अवैध होर्डिंग के मामले पर कोर्ट ने पूछा- इस तरह के बैनरों से और कितनी जानें जाएंगी
* कोर्ट ने कहा कि देश में जीवन का कोई मूल्य नहीं, हमारा इस सरकार में विश्वास नहीं है
* होर्डिंग गिरने के कारण टैंकर के नीचे आ जाने से महिला इंजिनियर की मौत हो गई थी

चेन्नै/एजेंसी

तमिलनाडु में एक दिन पहले ही होर्डिंग गिरने के चलते एक युवती हादसे का शिकार हो गई थी। इस मामले पर मद्रास हाई कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से जवाब मांगा है। हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि इस तरह के बैनरों से और कितनी जानें जाएंगी, जोकि लोगों की जिंदगी को खतरे में डाल रहे हैं। बता दें कि महिला इंजिनियर पर होर्डिंग गिरने के चलते उनका संतुलन बिगड़ गया था। संतुलन बिगड़ने के बाद उन्हें पानी के टैंकर ने कुचल दिया और उनकी मौत हो गई।

अदालत ने सख्ती दिखाते हुए राज्य सरकार से पूछा कि क्या सरकार ऐसे अनधिकृत बैनरों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाएगी? न्यायमूर्ति एम. सत्यनारायण और न्यायमूर्ति एन. शेशासाय ने आश्चर्य जताते हुए कहा, ‘राज्य सरकार को सड़कों को पेंट करने के लिए और कितने लीटर खून की जरूरत है।’ अदालत ने पूछा कि क्या अब कम से कम मुख्यमंत्री के. पलनिसामी ऐसे अनधिकृत बैनरों के खिलाफ बयान जारी करना चाहेंगे?

अदालत ने घोर नौकरशाही उदासनीता की तरफ इशारा करते हुए कहा, ‘इस देश में जीवन का कोई मूल्य नहीं है। हमारा इस सरकार में विश्वास नहीं है।’ अदालत ने सामाजिक कार्यकर्ता ‘ट्रैफिक’ रामास्वामी और वकील वी. लक्ष्मीनारायण और वी. कन्नादासन की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। उन्होंने अवैध होर्डिंग के कारण गुरुवार को हुई इंजिनियर की मौत को अदालत के संज्ञान में लाया।

पीछे से आ रहे टैंकर ने रौंद दिया
पीड़िता आर सुभाश्री कांथाचेवदी में चेन्नै में एक सॉफ्टवेयर फर्म में काम करती थीं। वह सुबह छह बजे ऑफिस गई थीं और दोपहर 2 बजे शिफ्ट पूरी होने के बाद ऑफिस से निमिलीचेरी, क्रोमपेट स्थित अपने घर जा रही थीं। पल्लवरम थोरइपक्कम रेडियल रोड पर सत्ताधारी पार्टी एआईएडीएमके का एक होर्डिंग अवैध रूप से लगाया जा रहा था। होर्डिंग गिरने से सुभाश्री अपनी स्कूटी से फिसल गईं और पीछे से आ रहे पानी के टैंकर ने उन्हें रौंद दिया।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *