अन्य ख़बरें सफर

दिल्ली के इस मंदिर में श्रृंगार के लिए दक्षिण भारत से मंगाए जाते हैं फूल

नई दिल्ली/एजेंसी

प्रसिद्ध छतरपुर मंदिर या श्री आद्या कात्‍यायनी शक्तिपीठ दक्षिण दिल्‍ली के छतरपुर इलाके में स्थित है। यह दिल्ली के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है और लगभग 70 एकड़ में फैला हुआ है। सफेद मार्बल से बना हुआ यह मंदिर खूबसूरत बगीचों से घिरा हुआ है। मंदिर की नक्‍काशी, दक्षिण भारतीय वास्‍तुकला के बेहतरीन उदाहरण है। यह देश का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर परिसर है। देवी दुर्गा के छठे स्‍वरूप को समर्पित यह मंदिर बेहद खूबसूरत है।

इस मंदिर की स्थापना कर्नाटक के संत बाबा नागपाल जी ने की थी। पहले मंदिर स्थल पर सिर्फ एक कुटिया हुआ करती थी और अब एक भव्य मंदिर है। छतरपुर मंदिर माता के छठे स्वरूप माता कात्यायनी को समर्पित है, जिसके कारण इसका नाम कात्यायनी शक्तिपीठ रखा गया है। मंदिर में विराजमान माता कात्यायनी का श्रृंगार रंग-बिरंगे फूलों की माला से किया जाता है। इस माला में लगभग सभी रंग के फूल होते हैं और इसे खास तौर पर दक्षिण भारत से मंगाया जाता है।

कैसे पहुंचे
छतरपुर मंदिर तक पहुंचना बहुत ही आसान है। दिल्ली के सभी हिस्सों से यहां बड़ी आसानी से पहुंचा जा सकता है। मैट्रो की बात करें तो, यहां से सबसे नजदीकी मेट्रो स्टेशन छतरपुर (यलो लाइन) है। छतरपुर मेट्रो स्टेशन से मंदिर सिर्फ 500 मीटर की दूरी पर स्थित है। आप ऑटो करके या फिर 10 मिनट पैदल चलकर मंदिर तक पहुंच सकते हैं। दिल्ली ट्रांसपॉर्ट कॉर्पोरेशन की बसों से भी यहां आसानी से पहुंचा सकता है। बता दें, यह मंदिर कुतुब मीनार से 4 किमी की दूरी पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *