खबरें

भारत के ‘हिंदू राष्ट्र’ होने पर संघ अडिग : भागवत

हाइलाइट्स
* मोहन भागवत ने बताया, भारत के हिंदू राष्ट्र होने पर अडिग
* नागपुर में आरएसएस प्रमुख ने बताई हिंदू की परिभाषा
* दशहरा के मौके पर कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे
* संघ प्रमुख ने किया शस्त्र पूजन, 370 पर भी टिप्पणी

नागपुर/एजेंसी

विजयदशमी के मौके पर नागपुर के रेशमीबाग में आयोजित एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने भारत को हिंदू राष्ट्र बताया है। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा है कि संघ इस बारे में अडिग है। इस कार्यक्रम में उन्होंने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के फैसले पर भी टिप्पणी करते हुए इसे मोदी सरकार का साहसी फैसला बताया है।

‘हिंदुस्तान है भारत, हिंदू राष्ट्र’
कार्यक्रम के दौरान संघ प्रमुख ने मंगलवार को कहा, ‘संघ अपने इस नजरिये पर अडिग है कि भारत एक हिंदू राष्ट्र है। राष्ट्र के वैभव और शांति के लिए काम कर रहे सभी भारतीय ‘हिंदू’ हैं।’ उन्होंने कहा, ‘संघ की अपने राष्ट्र की पहचान के बारे में, हम सबकी सामूहिक पहचान के बारे में, हमारे देश के स्वभाव की पहचान के बारे में स्पष्ट दृष्टि और घोषणा है, वह सुविचारित और अडिग है कि भारत हिंदुस्तान, हिंदू राष्ट्र है।’

बताई हिंदू की परिभाषा
भागवत ने आगे कहा, ‘जो भारत के हैं, जो भारतीय पूर्वजों के वंशज हैं और सभी विविधताओं का स्वीकार, सम्मान और स्वागत करते हुए आपस में मिलजुल कर देश का वैभव और मानवता में शांति बढ़ाने का काम करने में जुट जाते हैं, वे सभी भारतीय हिंदू हैं।’ इस दौरान उन्होंने मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर कहा कि कई बार ऐसा होता है कि घटना होती नहीं है लेकिन उसे बनाने की कोशिश की जाती है।

उन्होंने कहा कि संघ का नाम लिंचिंग की घटनाओं से जोड़ा गया, जबकि संघ के स्वयंसेवकों का ऐसी घटनाओं से कोई संबंध नहीं होता। भागवत ने कहा का लिंचिंग जैसा शब्द भारत का है ही नहीं क्योंकि भारत में ऐसा कुछ होता ही नहीं था। इस मौके पर एचसीएल के संस्थापक शिव नाडर मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, जनरल (सेवानिवृत्त) वी के सिंह और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *