महा ठगी : CG में पैसा दुगुना और ज्यादा ब्याज देने की लालच देकर 27 करोड़ 61 लाख की ठगी: 4 आरोपी गिरफ्तार

बलौदा बाजार । वर्तमान भारत ।

दिनेश मिश्र ( प्रबंध संचालक)

बलौदाबाजार-भाटापारा पुलिस ने 27 करोड़ 61 लाख की ठगी करने वाले 4 आरोपियों को राजस्थान के धौलपुर से गिरफ्तार कर लिया है। चारों आरोपी चिटफंड कंपनी गरिमा रियल एस्टेट के डायरेक्टर हैं, जिन्हें मंगलवार को छत्तीसगढ़ लाया गया। ये सभी किसी अन्य मामले में धौलपुर जिला जेल में बंद थे, जिन्हें वारंट पर प्रदेश लाया गया है।

चारों ठग

इस चिटफंड कंपनी ने रकम दोगुना करने का लालच देकर लोगों को ठगी का शिकार बनाया था। इस चिटफंड कंपनी ने 27 करोड़ 61 लाख 80 हजार 361 रुपए की ठगी की है। इससे पहले भी गरिमा रियल एस्टेट कंपनी के 2 डायरेक्टरों को गिरफ्तार किया गया था। आरोपियों में शिवराम कुशवाहा, जितेंद्र कुशवाहा, बनवारी लाल, विजेंद्र पाल सिंह शामिल हैं। ये चारों आरोपी राजस्थान के धौलपुर के रहने वाले हैं।

प्रोडक्शन वारंट पर चारों आरोपी राजस्थान से लाए गए

विदित हो कि गरिमा रियल एस्टेट कंपनी ने कई स्कीम निकाल रखी थी, जिसमें अलग-अलग समयावधि जैसे 5 साल 10 साल में रकम को दोगुना करने का झांसा लोगों को दिया जाता था। कंपनी के सदस्य लोगों को अधिक ब्याज देने का भी लालच देते थे। हजारों लोगों ने कंपनी की लुभावनी योजनाओं से प्रभावित होकर इसमें निवेश किया। जब तय अवधि बीत जाने के बाद भी लोगों को उनके पैसे वापस नहीं मिले, तो उन्हें अपने ठगे जाने का अहसास हुआ। वहीं कंपनी के डायरेक्टर भी यहां ऑफिस बंद कर फरार हो गए।इसके बाद पीड़ित निवेशकों ने बलौदाबाजार-भाटापारा के सिटी कोतवाली और सुहेला थाने में मामला दर्ज कराया। दोनों थानों में इस चिटफंड कंपनी के खिलाफ 215 केस दर्ज हैं, जिनके तहत 2 करोड़ 75 लाख 187 हजार रुपए की ठगी का मामला है। वहीं कलेक्टोरेट में पूरे जिले से 9 हजार 312 आवेदन प्राप्त किए गए थे, जिसके तहत निवेशकों ने 27 करोड़ 61 लाख 80 हजार 361 रुपए की रकम वापसी कराने की मांग की।

सिटी कोतवाली और सुहेला थाने में मामला दर्ज

इधर शिकायत पर चिटफंड कंपनी के डायरेक्टर्स व प्रबंधकों के खिलाफ थाना सिटी कोतवाली और सुहेला में अपराध क्रमांक 192/2017 और 69/2018 धारा 420, निपेक्षकों के हितों का संरक्षण 2005 की धारा 10 अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया। पुलिस फरार डायरेक्टरों की तलाश में जुट गई। इस दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि कंपनी के 4 डायरेक्टर राजस्थान के धौलपुर में किसी अन्य मामले में जेल में हैं।

राजस्थान भेजी गई थी पुलिस टीम

इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार झा के दिशा-निर्देश पर पुलिस टीम को राजस्थान रवाना किया गया। चारों आरोपियों को धौलपुर जेल राजस्थान से न्यायालयीन प्रक्रिया के तहत गिरफ्तार कर पुलिस इन्हें छत्तीसगढ़ लेकर आई। SSP दीपक कुमार झा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि चारों आरोपियों शिवराम कुशवाहा, जितेंद्र कुशवाहा, बनवारी लाल और विजेंद्र पाल सिंह पर छत्तीसगढ़ के बेमेतरा, जांजगीर-चांपा, बलौदाबाजार और रायपुर में भी मामले दर्ज हैं।

अन्य राज्यों में भी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज

इसके अलावा अन्य राज्यों में ग्वालियर (माधप्रदेश), भरतपुर (राजस्थान), परवानी (महाराष्ट्र) और शोलापुर (महाराष्ट्र) में भी अपराध पंजीबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि अब तक गरिमा रियल एस्टेट चिटफंड कंपनी के फरार सभी 6 आरोपी डायरेक्टरों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

SSP दीपक कुमार झा ने कहा कि राज्य के ठग चिटफंड कंपनियों के खिलाफ राज्य सरकार सख्त है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार लगातार कार्रवाई की जा रही है। इसी क्रम में गरिमा रियल एस्टेट चिटफंड कंपनी के डायरेक्टरों पर कार्रवाई की गई है, जिसमें ASP सचिंद्र चौबे, SDOP भाटापारा सिद्धार्थ बघेल, उपनिरीक्षक पुरुषोत्तम कुर्रे, थाना प्रभारी सुहेला हरीश साहू ने सक्रिय भूमिका निभाई।

आरोपियों के नाम

  1. शिवराम कुशवाहा (33 वर्ष), निवासी जमालपुर थाना कलौरी जिला धौलपुर राजस्थान।
  2. जितेंद्र कुशवाहा (33 वर्ष), निवासी जमालपुर थाना कलौरी जिला धौलपुर राजस्थान।
  3. बनवारी लाल लोधी (40 वर्ष), निवासी बहरावती थाना कलौरी जिला धौलपुर राजस्थान।
  4. विजेंद्र पाल सिंह (46 वर्ष), निवासी उम्मेदीनगर पदमा राजाखेड़ा जिला धौलपुर राजस्थान।
    जशपुर पुलिस ने भी चिटफंड कंपनी के आरोपी डायरेक्टर को किया गिरफ्तार

जशपुर पुलिस ने भी चिटफंड कंपनी के नाम पर 4 करोड़ से अधिक की ठगी करने वाले आरोपी डायरेक्टर को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी दिनेश सैनी को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार कर मंगलवार शाम को जशपुर लाया गया। आरोपी ने चिटफंड कंपनी में पैसे दोगुने करने का झांसा देकर छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलों में 4 करोड़ से अधिक की ठगी की थी।

जशपुर पुलिस ने भी चिटफंड कंपनी के डायरेक्टर को किया गिरफ्तार।
जशपुर पुलिस ने भी चिटफंड कंपनी के डायरेक्टर को किया गिरफ्तार।
मामले में दो अन्य आरोपी अभी फरार हैं, जिनकी तलाश पुलिस सरगर्मी से कर रही है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, जशपुर जिले के कुनकुरी थाना क्षेत्र में शुष्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नाम से चिटफंड कंपनी संचालित हो रही थी। कंपनी का डायरेक्टर दिनेश सैनी था। कंपनी के खिलाफ अरुणा लकड़ा (35 वर्ष) ने इस साल 26 जून को ठगी का केस दर्ज कराया था।

4 करोड़ से अधिक की ठगी:6 साल में पैसा दोगुना करने का देता था झांसा; डायरेक्टर को उज्जैन से गिरफ्तार कर छत्तीसगढ़ लाई पुलिस

जानकारी के मुताबिक, आरोपियों के खिलाफ रायगढ़ जिले के निवेशकों से 19 लाख 15 हजार 311 रुपए, दुर्ग जिले में 2 करोड़ 57 लाख, धमतरी जिले में 1 करोड़ 10 लाख और जशपुर जिले के निवेशक से 17 लाख 50 हजार रुपए की ठगी की गई है। शुष्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर दिनेश सैनी को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।