भाजपा महिला मोर्चा जशपुर ने की पत्रवार्ता…. मंत्री कवासी लखमा के अभद्र टिप्पणी का किया कड़ा विरोध

जशपुर (छत्तीसगढ़)

भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा जिला जशपुर की अध्यक्ष ममता कश्यप ने पत्रकार वार्ता कर कहा कि प्रदेश कांग्रेस सरकार के मंत्री कवासी लखमा द्वारा भाजपा प्रदेश प्रभारी डी.पुरंदेश्वरी जी के विरुद्ध अभद्र टिप्पणी करना एवं उनके लिए फूलन देवी जैसे शब्दों का उपयोग कर श्रीमती डी. पुरंदेश्वरी जी का उपहास करना मातृशक्ति का अपमान है, भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा इसका विरोध करती है। आगे श्रीमती कश्यप ने कहा कि प्रदेश सरकार के मंत्री कवासी लखमा से जब शराब बंदी के बारे में पूछा गया तो तब उनका कहना था कि शराब पीकर आदिवासी खुश होते है। छत्तीसगढ़ में महिलाओं से संबंधित बढ़ते अपराधों को लेकर नाकाम व नाकारा साबित हुई है भुपेश सरकार। बेमेतरा जिले में एक लड़की की अस्मत लूटने के बाद उसे बेच दिया गया, कांकेर जिले के मालगांव में खेत की रखवाली करने गई महिला के साथ बलात्कार कर उसकी हत्या करदी गई, बालोद में इलाज कराने गई युवती के साथ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा अश्लील हरकत की गई,बिलासपुर में महिला के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसे बदहवास हालात में सड़क में छोड़ दिया गया, राजनांदगांव जिले के खैडागढ़ में एक महिला की हत्या कर उसकी लाश को बोरे में भरकर फेक देने की घटना सामने आई है, बलौदा बाजार जिला मुख्यालय से 8 किलोमिटर दूर पाँसरी गाँव मे एक मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म करने के बाद आरोपी द्वारा उसकी हत्या करदी गई, इस शांति की टापू कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ को कांग्रेस सरकार ने अपराधगढ़ बना दिया।
राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक का कहना है कि छत्तीसगढ़ में बालात्कार नही होती है महिलाएं अपनी स्वेच्छा से संबंध बनाती हैं।इतने बड़े पद में रहते हुए और खुद महिला होते हुए महिलाओं के लिए ऐसे शब्दों का प्रयोग अशोभनीय है।
महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिल भेड़िया के क्षेत्र में एक शिक्षिका के गले मे गमछा डालकर उसे मार दिया जाता है।
महिला बाल विकास विभाग के कमीशन खोरी, भ्रष्टाचार एवं घटिया सामग्री लोगों को भेजा जा रहा था जिसके कारण महासमुंद जिले का जिले स्तर का अधिकारी सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार के विरोध में अनशन पर बैठ गया था। अगर राज्य सरकार इन मामलों को गंभीरता से लेती तो इस तरह की घटनायें होती ही नहीं लेकिन वो तो अपने सत्ता के सुख में मदमस्त है। प्रदेश सरकार द्वारा महिला कानूनों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। आज छत्तीसगढ़ में माँ अपनी बच्चीयों को लेकर सुरक्षित नही है और परिवार अपने घर के महिला सदस्यों को लेकर सुरक्षित नही है।
हर दिन प्रदेश में बेटियों के साथ रेप जैसी घटनाएं हो रही हैं मगर प्रदेश के मुखिया भुपेश बघेल ने इन सब मामलों पर एक भी शब्द नही बोला। प्रदेश कांग्रेस की सरकार हर मामले में विफल साबित हो रही है। प्रदेश में लचर कानून व्यवस्था होने के कारण रोज कोई न कोई घटनाएं हो रही हैं।
पत्रकार वार्ता के समय ममता कश्यप के साथ मुख्य रूप से जिला पंचायत अध्यक्ष रायमुनि भगत, पूर्व जिला पंचायत सदस्य उमा देवी एवं महिला मोर्चा के पदाधिकारी उपस्थित थे।