1बुथ 20 युथ के सुत्र के साथ मैदान में उतरेगी भारतीय जनता युवा मोर्चा. नवगठित मोर्चा की पहली बैठक में तैयार की गई रणनीति

वर्तमान भारत


जशपुर (छत्तीसगढ़)

धर्मातंरण के मुद्दें पर भारतीय जनता युवा मोर्चा नए सिरे से रणनीति तैयार की है। मोर्चा के पदाधिकारी और कार्यकर्ता अब,मतातंरण की सूचना मिलने पर तत्काल मौके पर पहुंच कर,ना केवल पूरे मामले की जानकारी जुटाएंगें अपितु इसका तीखा विरोध भी करेगें। इस संबंध में नवगठित भाजयुमो के जशपुर जिले की ईकाई का पहले बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है। भाजपा के बिलासपुर संभाग के संगठन प्रभारी और वरिष्ठ नेता कृष्ण कुमार राय और प्रदेश मंत्री भाजपा प्रबल प्रताप सिंह जूदेव की उपस्थिति और भाजयुमो के जिलाध्यक्ष अमन शर्मा की अध्यक्षता में जिला भाजपा कार्यालय में आयोजित किया गया था। इस बैठक में भाजपा के जिलाध्यक्ष रोहित साय, वरिष्ठ भाजपा नेता नरेश नंदे, जिला महामंत्री भाजपा सुनील गुप्ता, विक्रमादित्य सिंह जूदेव, भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष शौर्य प्रताप सिंह जूदेव, देवधन नायक, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य भाजयुमो नितिन राय, जशपुर शहर मंडल अध्यक्ष संतोष सिंह, विकास सोनी,जिला महामंत्री द्वय भाजयुमो अवधेश गुप्ता एवं दीपक गुप्ता,जशपुर शहर अध्यक्ष भाजयुमो राहुल गुप्ता। बैठक में स्वास्थ्य विभाग में हाल ही में उजागर हुए 12 करोड़ के घोटाला मामले पर भी चर्चा की गई। शासन की कार्रवाई को खानापूर्ति बताते हुए,बैठक में शामिल नेताओं ने समिति की जांच में दोषी पाए गए सभी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजयुमो ने कमर कसते हुए एक बूथ,20 यूथ के सूत्र पर काम करने का निर्णय लिया है। भाजयुमो के जिला अध्यक्ष अमन शर्मा ने बैठक की जानकारी देते हुए बताया कि आलाकमान के निर्देश के मुताबिक भाजयुमो के सभी पदाधिकारी,जिले के हर बूथ तक पहुंचेगें और एक पोलिंग बूथ में कम से कम 20 सक्रिय कार्यकर्ताओं को नियुक्त कर,उन्हें केन्द्र सरकार की नीतियों,योजनाओं और कार्यो के साथ प्रदेश की कांग्रेस सरकार के झूठे वायदे और विफलताओं के प्रचार प्रसार की जिम्मेदारी दी जाएगी।
जिले के कांसाबेल तहसील के टांगरगांव में प्रस्तावित स्टील प्लांट के विरोध में भारतीय जनता युवा मोर्चा 2 अगस्त को मंडल स्तरीय धरना प्रदर्शन का आयोजन करेगी। आयोजित बैठक में इस आंदोलन की व्यापक रूप रेखा तैयार की गई। जानकारी के लिए बता दें कि इस प्लांट को लेकर प्रभावित होने वाले इलाके के सर्वे के लिए 10 सदस्यी समिति का गठन भाजपा ने किया था। सांसद गोमती साय की अध्यक्षता वाली इस समिति ने जनभावना को प्लांट के विरोध में बताते हुए रिपोर्ट प्रस्तुत की थी। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजातिय आयोग के पूर्व अध्यक्ष नंदकुमार साय ने टांगरगांव के प्रस्तावित स्टील प्लांट का खुल करविरोध करने की घोषणा की थी।