सीईओ से लेकर सचिव के कुर्सी की लडाई में जनपद का काम काज पड़ा ठप्प , ग्रामीणों को नही मिल रहा योजनाओं का लाभ … जिला पंचायत आंखे मूंद देख रहा तमाशा , हो रही किरकिरी ….जिला पंचायत भी हो रहा है कमजोर साबित

रायगढ़ से आशीष यादव की रिर्पोट

तत्कालीन सीईओ नितेश , कुडुमकेला के तत्कालीन निलंबित सचिव गोपाल सिंह का मोह माया नही छूट रहा कारण क्या ?? इनके किस मोह में फंसा जिला पंचायत ??

आपको बता दे कि छत्तीसगढ़ शासन के द्वारा घरघोडा जनपद पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी पद पर शिव कुमार टंडन की नियुक्ति की गई है । प्रक्रियानुसार जिला पंचायत व जनपद पंचायत में शिव कुमत ने जॉइन कर लिया गया है । वही जिला पंचायत द्वारा जारी आदेश के तहत नितेश उपाध्याय को जिला पंचायत में एपीओ के पद पर जॉइन करना है । परंतु आज 1 सप्ताह बीत जाने के बाद भी तत्कालीन सीईओ के द्वारा शासन द्वारा नियुक्त किये गए शिव टंडन को प्रभार नही देना क्या कारण है । उपाध्याय के द्वारा प्रभार नही देने के कारण शासन की योजनाओं का ग्रमीणों को लाभ नही मिल रहा है शासकीय कार्य पूरी तरह ठप्प हो गया है कार्यलय के साथ पंचायतों में भी काम नही हो रहा है । रायगढ़ जिला पंचायत घरघोडा जनपद पंचायत में उठ रहे विवादों कुडुमकेला में पूर्व में निलंबित सचिव गोपाल सिंह ठाकुर की उसी पंचायत में नियुक्त का मामला हो या नए जनपद पंचायत सीईओ को प्रभार दिलाने का मामला हो इन पर कोई संज्ञान नही ले रहा, घरघोड़ा के पूरे मामले में आँखे बंद कर चुप्पी साधे हुए है आखिर क्यों ?? तत्कालीन सीईओ उपाध्याय व कुडुमकेला के तत्कालीन निलंबित सचिव गोपाल सिंह ठाकुर का कद शासन व जिला पंचायत से बड़ा है ??

जनपद सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि तत्कालीन सीईओ के द्वारा बेक दिनाँक में चेक काटे जाने की जानकारी मिल रही है । जिसके कारण प्रभार नही देने की बाते जनपद में चर्चा का विषय बना हुआ है । घरघोडा जनपद क्षेत्र में बसने के लिए जमीन खरीदने की बात सामने आ रही है जिसकी वजह से खेल हो रहा है। साहब उच्च न्यायालय की शरण मे जाने की बात बताई जा रही है इस पूरे प्रकरण की हम इसकी पुष्टि नही करते है । परंतु बहुत जल्दी इस पूरे मामले के परत दर परत पर्दा उठाने के लिए हमारी टीम ने ग्राउंड जीरो पर जाकर पड़ताल शुरू कर दी है।