Event More NewsNatioal NewsPopular NewsWorldजानकारीविविध

31 मार्च का इतिहास : हिंदी सिनेमा की ‘ट्रेजडी क़्वीन’ ने दुनिया को कहा था अलविदा…दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का जन्म…जाने आज के इतिहास में और है क्या?…पढ़ें आज का इतिहास



History 31 March :- इतिहास के नजरिये से 31 मार्च का दिन बेहद खास है. 31 मार्च साल 1972 में हिंदी सिनेमा की मशहूर अभिनेत्री मीना कुमारी ने महज 39 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहा था. इसी साल फरवरी में उनकी ड्रीम फिल्म ‘पाकीजा’ (Pakeezah) रिलीज हुई थी, जिसके कुछ ही दिन बाद वो बीमार पड़ गईं. मीना, लिवर की समस्या से जूझती रहीं, जो अंत में जानलेवा साबित हुई. मीना कुमारी ने बैजू बावरा, दिल अपना और प्रीत पराई, भाभी की चूड़ियां, मेरे अपने, बहू बेगम जैसी दर्जनों कामयाब फिल्में दी थीं. उन्हें हिंदी सिनेमा की ‘ट्रेजडी क्वीन’ भी कहा जाता है.

इतिहास के दूसरे अंश में बात दुनिया के सबसे भीषण ‘विरोध प्रदर्शन’ की करेंगे. आज से करीब 34 साल पहले 31 मार्च साल 1990 में लंदन में ‘पोल टैक्स’ (‘poll tax’ movement) यानी की प्रति व्यक्ति कर (टैक्स) के खिलाफ सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ था. इस प्रदर्शन में 70 हजार लोग सड़क पर उतर आये थे. प्रदर्शन में हुई हिंसा में 113 लोग घायल हुए थे. करीब 340 प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

इतिहास के तीसरे अंश में बात होगी दुनिया के सबसे मशहूर टावर ‘एफिल टावर’ (‘Eiffel Tower’) की. 31 मार्च साल 1889 को पेरिस में मौजूद एफिल टावर को आधिकारिक तौर पर खोला गया था. 324 मीटर ऊंचे इस टावर को देखने के लिए हर साल 70 लाख से ज्यादा लोग आते हैं.

देश-दुनिया में 31 मार्च  का इतिहास

1983: कोलंबिया के पोपायान में आए भूकंप से सैकड़ों लोगों की जान गई.

2004: अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में एक नाइट क्लब में आग लगने से 175 लोगों की मौत.

1981: एक घरेलू विमान का अपहरण करने वाले इंडोनेशिया के पांच आतंकियों में से चार को थाइलैंड के बैंकॉक में मार गिराया गया.

1945: लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस नेता मीरा कुमार का जन्म हुआ.

1938: दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का जन्म हुआ.

1870: अमेरिका में पहली बार किसी अश्वेत नागरिक ने वोट दिया.

1865: देश की पहली महिला डॉक्टर आनंदी बाई जोशी का जन्म हुआ। जोशी.

1774: बंगाल के गवर्नर वारेन हेस्टिंग्स ने कोलकाता में देश का पहला प्रधान डाकघर बनवाया.